नया क्या है

New Registrations are open for Crop Diversification         New मेरा पानी मेरी विरासत - डॉक्यूमेंट्री फिल्म देखने के लिए यहां क्लिक करें         New मेरा पानी मेरी विरासत विषय गीत देखने के लिए यहां क्लिक करें         New बासमती धान की सीधी बिजाई हेतु सस्य क्रियाएं

img-one

श्री नरेंद्र मोदी

माननीय प्रधान मंत्री, भारत
img-one

श्री मनोहर लाल

माननीय मुख्यमंत्री, हरियाणा
img-one

श्री जय प्रकाश दलाल

माननीय कृषि मंत्री, हरियाणा

योजना की प्रस्तावना

राज्य में लगातार बढ़ते हुए धान के क्षेत्र से प्रत्येक वर्ष लगभग 1.0 मीटर भू-जल स्तर में गिरावट आ रही है। हमारी आने वाली पीढियों के लिए पानी बचाने हेतु सरकार ने 1.00 लाख हैक्टेयर भूमि में मक्का / कपास / बाजरा / दलहन / बागवानी की फसलो से विविधीकरण हेतु ‘मेरा पानी मेरी विरासत‘ योजना की शुरूवात की है। किसानो को राज्य के 8 खण्डो (रतिया, सिरसा, सीवन, गुहला, पीपली, ईस्माइलाबाद, बबैन तथा शाहाबाद) में धान के पिछले वर्ष के क्षेत्र में कम-से-कम 50 प्रतिशत क्षेत्र में वैक्लपिक फसलो (मक्का / कपास / बाजरा / दलहन / बागवानी) को उगाकर विविधीकरण अपनाना होगा। उपर्युक्त योजना के माध्यम से फसल विविधीकरण का उददेशय टिकाऊ खेती के साथ-2 नवीनतम तकनीको को बढावा देना, उत्पादन बढाना तथा किसान की आय बढाने के लिए फसल विकल्प चुनने में सक्षम बनाना है।

पानी के अति-दोहन के मूल कारणः

  • अधिक पानी की मांग वाले धान-गेहूं के फसल चक्र की निंरतर खेती।
  • वर्षिक वर्षा से होने वाले पुनर्भरण से अधिक भू-जल का दोहन।
  • धान और गेहूं की फसलो में सिंचाई विधि से पानी का अधिक प्रयोग व बर्बादी।

‘योजना का उददेशय प्रकृति, मिट्टी और पानी का संरक्षण करना तथा टिकाऊ खेती को बढावा देना है‘

योजना के उददेशयः

  • हरियाणा में अधिक पानी की मांग वाली फसलो के क्षेत्र को कम करना।
  • स्थायी खेती के लिए वैकल्पिक फसलो को बढावा देना तथा नवीनतम तकनीको की प्रेरणा देना।
  • संसाधनों के संरक्षण को बढावा देना।
  • भू-जल स्तर को बनाए रखना।
  • धान-गेहूं चक्र के कुप्रभाव से मृदा स्वास्थ्य को बचाना तथा सुक्ष्म तत्वों का सन्तुलन मिट्टी में बनाए रखना।
  • धान-गेहूं चक्र की खेती से हटाकर किसान को अधिक लाभ देने वाली फसलो का विकल्प देने के लिए।


  • इस योजना का विस्तृत दिशानिर्देश

  • योजना के तहत उपलब्ध प्रोत्साहन

मुख्यमंत्री का संदेश


कृषि मंत्री का संदेश


चित्र प्रदर्शनी


Image1
Image2
Image3

Image4
Image5
Image6

Image7
Image8

प्रथाओं का पैकेज

भारत देश के हरियाणा प्रदेश में धान- गेहूँ फसल प्रणाली लगातार अपनाने से फसलों एवं मृदा की उत्पादन शक्ति में कमी एंव गिरते भूजल स्तर के साथ जलवायु परिवर्तन जैसी समस्याएं उत्पन्न हो रही है जो कि किसानों को आर्थिक दृष्टि से नुकसान पहुंचा रही है। यही समस्याएं भविष्य में जनसंख्या बढ़ने के साथ बढ़ती रहेगी जिसकी वजह से

सफलता की कहानियां

comingsoon

एक प्रदर्शन फार्म पर जाएँ

खरीफ 2020 के दौरान मेरा पानी-मेरी विरासत योजना के तहत प्रदर्शन प्लॉट का विवरण
फतेहाबाद
कैथल
कुरुक्षेत्र
सिरसा



कृषि यंत्रीकरण

मेरा पानी-मेरी विरासत योजना के अंतर्गत यंत्रीकरण को बढावा देने के उददेशय से तथा मक्का फसल की बिजाई के लिए विभाग द्वारा मक्का प्लांटर, मल्टी क्रॉप प्लांटर तथा न्युमैटिक प्लांटर की प्रयाप्त संख्या में उपलब्धता सुनिशिचत की गई है। यंत्रीकरण की विभिन्न योजनाओं के अतर्गत इन यंत्रो पर 40 से 50 प्रतिशत तक का अनुदान भी दिया जा रहा है।

कृषि और किसान कल्याण विभाग, कृषि भवन, सेक्टर 21, पंचकुला (हरियाणा)
  2019controlroom[at]gmail[dot]com
  0172-2521900

टोल फ्री हेल्प लाइन
1800-180-2117
9:00 AM To 5:00 PM (Working Days)

Copyright © 2020 Agriculture and Farmers Welfare Department. All Rights Reserved.